रामटेक की प्रतिकात्मक शोभायात्रा निकालने जिलाधिकारी को ज्ञापन…

रामटेक – राजु कापसे

वैकुंठ चतुर्दशी के पर्व पर जनसेवा मंडल द्वारा प्रतिवर्ष रामटेक में निकाली जानेवाली विख्यात शोभायात्रा इस वर्ष भी निकालने हेतु जिलाधिकाारी रविंद्र ठाकरे, नागपुर को शुक्रवार को ज्ञापन सौंपा गया। कोरोना निर्बंधों के चलते गत 39 वर्षों से अविरत आयोजित की जानेवाली शोभायात्रा इस वर्ष भी अखंडीत प्रतिकात्मक रुप से निकाले जाने का अनुरोध जिलाधिकारी से किया गया हैं।

ज्ञापन में कहा गया हैं कि यह 40 वी शोभायात्रा प्रतिकात्मक होगी। जिसमें केवल पांच चुनिंदा झाॅंकियां होगी। कोरोना के सभी नियम,निर्देशों का पालन किया जाएगा। भीड टाली जाएगी। नागरिक घरों में बैठकर केबल नेटवर्क द्वारा शोभायात्रा का आनंद ले सकेंगे। मंच कार्यक्रम नहीं होगा। समापन सादगीपुर्ण होगा।

ज्ञापनकर्ताओं में विधायक एड.आशीष जयस्वाल,पर्यटक मित्र चंद्रपाल चौकसे, नगराध्यक्ष दिलीप देशमुख,सुनिल रावत,शंकरराव चामलाटे, बबलु दुधबर्वे ,मोहन कोठेकर, नत्थुजी घरजाले आदि शामिल थे।

ज्ञापनकर्ताऔं ने जिलाधिकारी से निवेदन किया हैं कि शोभायात्रा आयोजन के नियम,निर्बंध, सुचनाएं वे ही तय कर आयोजकों को बताएं। ताकि श्रध्दा,आस्था,सांस्कृतिक परंपरा अविरत चलती रहें और शासन भी कोरोना प्रार्दुभाव नियंत्रण में सफल रहें। 28 नवंबर को शोभायात्रा निकलने का प्रयोजन हैं।

ज्ञात हो कि जनसेवा मंडल,रामटेक द्वारा वैकुंठ चर्तुदशी के दिन नगर में शोभायात्रा निकाली जाती हैं। जिसमें धार्मिक,पौराणिक, ऐतिहिसीक., सांस्कृतिक, सामाजिक विषयों पर जिवित झाॅंकियां निकाली जाती हैं। जिन्हें अंदाजन ढाई लाख रुपयों के पुरस्कार दिए जाते हैं। देर रात समापन होता हैं।

जिसमें किसी फिल्मस्टार की उपस्थिति होती हैं। नगर दूल्हन की तरह सजाया जाता हैं। नगर मानों दूसरी दिवाली ही मनाती हैं। इस वर्ष यह शोभायात्रा सफलतापूर्वक निकालनेवाले मुख्य संयोजक गोपालबाबा का कुछ माह पूर्व ही निधन हुआ था।

जिसके बाद शोभायात्रा के आयोजन पर प्रश्नचिन्हं लग गया था। दूसरी ओर कोरोना के पाबंदी से शोभायात्रा पर संकट के बादल मंडराने लगे थे। लेकिन धार्मिक स्थलों के खुलते ही नगरवासियों की आस जगी। और जिलिधिकारी को ज्ञापन देकर शोभायात्रा निकालने की अनुमती मांगी गई हैं। निर्णय अब जिलाधिकारी के पाले में हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here