Thursday, April 25, 2024
Homeराज्यइतवारा - रामटेक लोकल का किराया १० रुपयेकोरोना के समय से बढा...

इतवारा – रामटेक लोकल का किराया १० रुपयेकोरोना के समय से बढा था ३० रुपये…

Share

अभी भी ट्रेन की लेटलतीफी से यात्री परेशान

रामटेक – राजु कापसे

कोरोना काल के पूर्व रामटेक -इतवारा लोकल ट्रेन भाड़ा 10 रुपये था। परंतु कोरोना काल के समय तीन गुना यानी 30 रुपये हुआ था। कोरोना समाप्ति के दो वर्ष बाद भी कम नही हुआ था। लोकमत समाचार ने बार बार किराया कम करने की खबर छापी। इस खबर की दखल आखिरकर जनप्रतिनिधि को लेना पड़ा।

जनप्रतिनिधि व केंद्र सरकार के अधिस्थ रेल विभाग ने लोकमत समाचार के खबर का संज्ञान लेते हुए आखिरकार 22 फरवरी को दोपहर से रामटेक -इतवारा लोकल ट्रेन भाड़ा 10 रुपये किया।

अब किराया कम होने से लोकल ट्रेन से मजदूर, व्यापारी, विद्यार्थी को राहत मिलेगी। परिसर के अनेक गांव के मजदूर मजदूरी के लिए नागपुर जाते है अब उन्हें राहत मिलेगी।

नागपुर इतवारा लोकल समय पर चले नागपुर इतवारा लोकल समय पर नही चलने से यात्री की भारी फजीहत हो रही है। अंग्रेज के जमाने से रामटेक की लाइफ लाइन बनी नागपुर इतवारा लोकल अब यात्रियों के परेशानी की सबक बन गई है।

नागपुर इतवारा से रामटेक सुबह छूटने का समय सुबह 5.35 बजे का है. रामटेक पहुंचने का समय 6.55 व लोकल छूटने का समय 7.35 का है. नागपूर पहुंचने का समय सुबह 8.45 बजे का है। परंतु वो भी समय पर नही पहुचती। समय ज्यादा होने पर मजदूर काम पर नही जा सकते।

दोपहर की ट्रेन अब बंद कर दि है। शाम के समय इतवारा से रामटेक छूटने का समय 7.10 बजे, रामटेक पहुचने का समय रात 8.25 व रामटेक से छूटने का समय रात 9.30. बजे का है. परंतु लोकल रामटेक में काफी देर से पहुचती हैं। मजदूरों को अपने गांव जाने में देर रात हो जाती है। रात 9.30 बजे रामटेक से छूटने वाली ट्रेन इतवारा कब पहुचेगी इसका भी कोई समय सीमा नही है।

जानकारी के नुसार एक माह में 20 दिन लोकल लेट चलती है. रामटेक से सुबह छुटने वाली ट्रेन नागपूर मे समय पर नही पहुंचती दुसरी ओर रात में इतवारा से आने वाली ट्रेन भी समय पर नही आती व समय पर नही पहुचती. रात का समय भी बराबर नही है। इससे लोग ट्रेन को बाय बाय करने लगे है।

ट्रेन क्यों लेट होती है- इस मार्ग पर मालगाडीया, एक्प्रेस ट्रेन को रस्ता देने में इतवारी- रामटेक ट्रेन को जगह जगह रोखकर रखा जाता इससे ट्रेन 30 दिनो में 20 दिन लेट चलती है. सबसे भारी परेशानी आमडी रेलवे स्टेशन पर है। यहा कोल डिपो होने से मालगाड़ियों के लिए लोकल ट्रेन समय पर नही छोडते ।

इससे यात्रीयो व मजदूरो को समय पर नही पहुँचते इस से उनका भारी आर्थिक नुकसान, शारीरीक व मानसीक पीडा झेलनी पड़ती है. जनप्रतीनीधी क्यों नहीं देते ध्यान- रामटेक संसदिय क्षेत्र मे चलनेवाली केवल एकही ट्रेन इतवारा – रामटेक है। यदि सांसद ने ट्रेन की लेटलतीफी पर रेल मंत्रालय मे आवाज उठाई तो एक दिन में लेटलतीफी बंद हो जाती है। परंतु क्षेत्र के सांसद के पास लोगो की समस्यां की ओर ध्यान देने का समय नहीं है.


Share
Raju Kapse
Raju Kapsehttp://mahavoicenews.com
मी, राजू कापसे रा, रामटेक जि, नागपूर येथील रहिवासी असून मी पत्रकारिता क्षेत्रात गेल्या 30 वर्षा पासून आहे. महाव्हाईस न्यूज च्या मुख्यकार्यकारणी व्यवस्थापन संघाचा सदस्य आहे, जेव्हापासून महाव्हाईस न्यूज ची सुरुवात झाली तेव्हापासून रामटेक तालुक्यातील काम सांभाळत आहे.
RELATED ARTICLES
spot_img
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

error: